No icon

चाणक्य नीति

1.लालची

 

लालची मनुष्य को बिना मेहनत बस पैसे दिख जाएं वह इसके लिए कुछ भी करेगा. इसलिए लालची लोगों को वश में करना बहुत आसान होता है. इन्हें पैसे देकर आसानी से अपने मन मुताबिक काम करवाया जा सकता है. आजकल यह बहुतायत हो भी रहा है. हां, लालच के प्रकार के अनुसार यह परिस्थिति बदल भी सकती है. जैसे अगर किसी को सिर्फ पैसे का लालच न हो, किसी और वस्तु का लालच हो सकता है. दरअसल यह इंसान को जरूरतमंद बना देता है. सामान्य शब्दों में इसे जरूरतमंद ढूंढ़ना और उसका फायदा उठाना भी कह सकते हैं.

 

2. गुस्सैल

 

गुस्सैल स्वभाव वालों को उनका गुस्सा सहकर अपने वश में किया जा सकता है. ऐसे लोगों को वश में करना आज सबसे आसान है क्योंकि आज कोई भी किसी का गुस्सा नहीं सह सकता. ऐसे में अगर कोई किसी का गुस्सा सहता है तो वास्तव में वह व्यक्ति धीरे-धीरे उस इंसान के वश में आ ही जाता है क्योंकि गुस्सा उसकी कमजोरी है और उसे भी पता है कि हर कोई उसकी कमजोरी समझकर उसे नहीं झेलेगा

 

3. मूर्ख

 

किसी बेवकूफ को वश में करना हो तो चाणक्य बस उसकी प्रशंसा करने की सलाह देते हैं क्योंकि सही-गलत की पहचान कर सकने की उसमें क्षमता नहीं होती और अपनी प्रशंसा सुननकर वह फूले नहीं समाता. इस प्रकार अपने प्रशंसक के कहे अनुसार वह कार्य जरूर करता है.

 

4. बुद्धिमान

 

चाणक्य नीति के अनुसार बुद्धिमान मनुष्य को हिप्नोटाइज करना सबसे मुश्किल काम है क्योंकि वह चीजों को बुद्धिमत्ता और सूक्ष्मता से निरीक्षण कर उसे परख और समझ सकता है. इसलिए किसी बुद्धिमान को हिप्नोटाइज करने का एकमात्र तरीका है उसके सामने सच बोलना. सच बोलकर उसे प्रभावित किया जा सकता है और इसका मान करते हुए वह उसके कहे अनुसार काम कर सकता है

Comment As:

Comment (0)