No icon

चाणक्य नीति

आचार्य चाणक्य ने इस कथन में बताया है कि व्यक्ति को हर समय अपने दुख का रोना नहीं चाहिए। ऐसा करके आप खुद को परेशानी में तो डालेंगे ही साथ ही खुशियों को भी अपने पास आने से रोक देते हैं।

 

यूं तो हम सभी जानते हैं कि जीवन में दुख आया है तो खुशी भी जरूर आएगी क्योंकि कोई भी चीज लंबे समय तक नहीं टिकती। लेकिन कई लोग ऐसे होते हैं कि जब भी उनकी जिंदगी में कोई दुख आता है तो वो हर समय उसी का रोना रोने लगते हैं और अपना दुख दूसरों के सामने जाहिर करते रहते हैं। मगर आपको ऐसा बिल्कुल भी करना चाहिए। किसी के सामने अपना दुख रोने से आपका दुख कम नहीं हो जाएगा।

 

हालांकि अगर आपके दिल के कोई करीब है तो उसके सामने आपना दुख बयां कर सकते हैं। यदि आप बार-बार घर में आए हुए लोगों को या अपने से जुड़े किसी व्यक्ति के सामने दुख का रोना रोएंगे तो आप मजाक का पात्र बन सकते हैं। ऐसा करने से बचें। इसलिए आचार्य चाणक्य जी कहते है कि जो व्यक्ति हर पल दुख का रोना रोता है उसके द्वार पर खड़ा सुख भी बाहर से ही लौट जाता है।

Comment As:

Comment (0)