No icon

चाणक्य नीति

आचार्य चाणक्य के अनुसार, अगर किसी सेना में सेनापति (मुखिया) ही न हो तो वह सेना भी जल्द बरबाद हो जाएगा। ऐसा इसलिए क्योंकि उस सेना को राह दिखाने वाला कोई व्यक्ति ही नहीं है। ठीक इसी तरह यदि किसी परिवार में मुखिया नहीं होगा तो दिन-प्रतिदिन लोगों को मन में कड़ावहट आने के साथ असफलता का सामना करना पड़ेगा

 

चाणक्य नीति कहती है कि अगर किसी खेत में कम बीजों को डाला जाए और फिर ऐसे में उम्मीद किया जाए की आने वाली फसल से ज्यादा मिले तो ऐसा बिल्कुल संभव नहीं है, आपके द्वारा बोए गए बीज के मुताबिक ही आपको फल मिलेगा। इसलिए चाणक्य जी कहते हैं कि व्यक्ति को हमेशा जवन में ज्यादा से मेहनत करना चाहिए

Comment As:

Comment (0)